Education System & 3 Idiot Movie

25

Without any practical sound knowledge we cannot do well to others. This was shown in the picture “Three Idiots. The Dean, Viru sahstra Buddhe was nic named as “Virus”

Education comes as a key to personality growth and self development that manifests in relentless promotion of self. But what is missing in self expression that flows from self giving. Giving unconditional love is the highest form of self expression. It may involve lot of sacrifice, but the final outcome can only bring benefit to all, including oneself. Online Student Counselling
At first we should understand that if we have unconditional love in our heart then only we can do selfless service. Service to mankind is possible if we are really kind.
“Little more kindness by you and me
What a beautiful world that would be”
If we are good human beings then there can be good self expression which will reflect in our service we render. Self expression does not mean that we reach the heights in our career through ruthless competition and self promotion.
Education comes as a key to personality growth and self development that manifests in relentless promotion of self. But what is missing in self expression that flows from self giving. Giving unconditional love is the highest form of self expression. It may involve lot of sacrifice, but the final outcome can only bring benefit to all, including oneself. Best Motivational Speaker
Without any practical sound knowledge we cannot do well to others. This was shown in the picture “Three Idiots. The Dean, Viru sahstra Buddhe was nic named as “Virus”.He was named so because of firstly 1.-He was very rigid,
Next2-He had theoretical knowledge,
3-He did not accept new and modern ideas,
4-He was very dogmatic in approach and too traditional to accept anything new.
Amir khan played the role of Rancho who was full of new and innovative ideas which had to be accepted by open and broad minded people. Somehow, as the society is today, people misunderstand Rancho initially but in the end “All became well.”
Many good people sometimes rather depressingly feel that all they do and say are mere drops in the ocean, when surrounded by such a sea of misery and despair. But deep down, they know they are following a call, taking forward a divine intervention in their own lives and that of others. If they treat the work they do and the help they give to others as a divine calling, it becomes a form of self expression that is divine.
Aid workers to this day go to zones of conflict and war or flood affected areas to give humanitarian assistance-not for their ulterior motives but to save lives. Sometimes even they risk their own lives in giving a helping hand to those who are in need. This type of service is given by Florence Nightingale. Even politicians like Nehru, Radhakrishnan, Rajendra Prasad, Ambedkar and Lal Bahadur Shastri, Indira Gandhi,Mother Terresa played the role models of selfless service.
In today’s Era we have business leaders like Azim Premji of Wipro and Narayan Murthy ,Sudha Murthy of Infosys and many other spiritual leaders like Sri Sri Ravi Shankar, Maulana Wahidduin Khan are working to bring desperate groups together and get them to live in harmony.
The world will become a better place to live in if each one of us can serve others with unconditional love and we realize the more we give more we receive.

best personal counselling in jaipur, best motivational blog and editorial in jaipur, counselling for depression/stress/tension in jaipur, career after 12th graduation in jaipur

 

Why the colorful Holi is better than the bon fire Holi ?

21

I think the basic reason for our economic and social problems is our negative thinking. On the contrary, our neighbour Japan is just the opposite. There, every person gives more importance to the moral values. Every person looks at the life with a nationalist view and is full of gratitude.
Normally either people talk about the magnificence of ancient India or they are seen giving suggestions about the problems of modern India in Present times. For a long time I have been thinking that this is such a paradox. On the one hand we talk about being the (Vishwa guru) the masters of the world, on the other hand we find that this country is divided into 565 Dynasties. Even today we find individualistic thinking. Every person seem to be thinking only about himself. Actually if we look at the basis of social, economic and political problems we find that the biggest problem is negative thinking. Keeping this view in mind if we look at the pillars of democracy like legislature, executive, judiciary or Journalism we find that every leader is busy criticizing the other person and focuses at the weaknesses. Whether you visit the secretariat or collect orate we find that every person is busy finding excuses for not doing anything. When we look at bureaucracy we find that administrative officers who get big positions with fat salaries are given this position so that they can take decisions in favour of our country but unfortunately either these people do not allow the work to be done or they find reason to not to do the work. For their petty personal benefits they don’t mind the bigger loss of the country. We all know that passivity or pessimistic thinking never helps any country, nor does it allow the country to grow. You must have hardly heard one leader or a bureaucrat praising anyone else.
I think the basic reason for our economic and social problems is our negative thinking. On the contrary, our neighbour Japan is just the opposite. There, every person gives more importance to the moral values. Every person looks at the life with a nationalist view and is full of gratitude. No matter how many number of materialistic things we may collect, the element of our success will be prominent only if we start thinking positively. Negative thinking starts from childhood. When the child is very young, first the parents start scaring him, then the teachers scare him in the school or college where he studies. Finally the place where he works, his employers do the same thing.
Actually there are two ways of working. One is the way of fear and the other is love. Just because the path of love is little more difficult, the person has to develop himself. On the other hand path of fear is easy so people find it convenient to choose the option of scaring others. Fear gives birth to anger, worries and greed.
So, now let us look at two day festival of Holi from the emotional point of view. Day one of holi is the day where we burn are negativity into the bonfire of Holika. Holika wanted to burn Prahlad because of her anger and jealousy but actually Prahlad never got burnt. So, only that thing gets burnt which is supposed to burn not everything.

best motivational speaker, best personal counselling in jaipur, counselling for depression/stress/tension, student counselling in jaipur, online student counselling

आत्मविश्वास बढ़ता है जब आप दूसरों को प्रोत्साहित करते है।

16

एक बच्चे के समान ताली बजाकर स्वयं को ऊर्जावान कीजिए। अपने आसपास के लोगों पर ध्यान दीजिए। यदि वे मुस्कुरा रहे है तो वे सभी ऊर्जावान है और यदि वे दुखी है उनमें ऊर्जा निम्नतम स्तर पर है। जब आप दुखी होते है तो आप सर्वाधिक ऊर्जा खर्च कर रहे होते हैं यह ऐसा है जैसे कि आपने मोबाइल का गूगल मैप सर्च करना शुरू कर दिया हो जिसके कारण आपको कोई दूसरी महत्त्वपूर्ण सूचना प्राप्त नहीं हो रही है तथा मोबाइल की बैट्री तेजी से खर्च होने लग गई हो।
यदि आप उच्च ऊर्जा स्तर पर जीना चाहते हैं तो एक शिशु के समान मुस्कराइए और ताली बजाइए जो एक अच्छी ध्वनि उत्पन्न करती है। ध्वनि हमारे जीवन के लिए अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। ध्वनि मस्तिष्क को संदेश भेजती है और मस्तिष्क की तंत्रिकाएँ सक्रिय हो जाती हैं तथा स्पंदन उत्पन्न करती हैं। इस स्पंदन से ऊर्जा उत्पन्न होती है। यदि ध्वनि प्रभावशाली नहीं है तो यह नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा जिसके कारण हमारे कार्य समुचित रूप से नहीं होंगे और यदि ध्वनि सौम्य, शक्तिशाली और सकारात्मक होगी तो यह सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगी और हमारे कार्य समुचित रूप से होंगे। हमारे आस-पास जो भी अच्छा कार्य हो रहा हो उसे प्रोत्साहन देने के लिए ताली बजाना ना भूलें।
आइए! हम प्रतिदिन अपना मूल्यंाकन स्वयं करंे तभी हम महान् कार्य कर सकंेगे। स्वयं का आकलन स्वयं कीजिए और अपने जीवन में ईमानदारी को स्थान दीजिए। स्वप्न लीजिए और स्वप्न पूर्ण करने हेतु कठिन परिश्रम कीजिए। आइए हम समय व्यर्थ न करें। कार्य के समय कार्य करें और खेल के समय खेले। आलोचना बंद करे और परिस्थितियों को बिना दूसरों को दोष दिए स्वीकार करें। स्वयं, अपने माता-पिता और अपने गुरूजनों पर विश्वास करें और उन्हे लगातार धन्यवाद देने का भाव बनाएं।

best motivational speaker, best personal counselling in jaipur, online student counselling, best motivational blog and editorial

 

स्व-अनुभूति ही सर्वश्रेष्ठ ज्ञान है।

10

ज्ञान का सर्वोच्च स्तर क्या है? प्रत्येक व्यक्ति को संसार का थोड़ा बहुत ज्ञान तो है परन्तु कोई भी जीवन की समस्याओं से पूर्णतः मुक्त नहीं हो पाता क्योंकि सर्वश्रेष्ठ ज्ञान की प्राप्ति अभी शेष है। ऐसा ज्ञान जो व्यक्ति को श्रेष्ठ व्यवसाय, रोजगार, और संतुष्टि प्रदान करता है, जो मानसिक चिड़चिड़ेपन (irritation) और ईर्ष्या (jealousy) को समाप्त करता है और जिससे भय, कमजोरी, लालच और लगाव समाप्त हो जाते हैं, यही सर्वश्रेष्ठ ज्ञान है। यह ज्ञान सार्वभौमिक रूप से स्वीकार्य है, पूर्णतः सरल है और अत्यधिक प्रासंगिक है।
स्वयं की एक शरीर के रूप में नहीं, बल्कि एक आत्मा के रूप में पहचान करना ही सर्वाेच्च ज्ञान है। हम शरीर नहीं, बल्कि शरीर और आत्मा का संयोजन हैं। शरीर मस्तिष्क की पाँच संवेदनाओं द्वारा संचालित किया जाता है, जो बुद्धि द्वारा नियंत्रित की जाती हैं और हमारी बुद्धि हमारी आत्मा (चेतना) द्वारा नियंत्रित की जाती है।
मैं एक शक्तिषाली आत्मा हूँ। मैं एक ऊर्जा हूँ। यही ज्ञान का सर्वोच्च स्तर है। सर्वोच्च आत्मा ईष्वर है और मैं उसका एक भाग हूँ। यह ज्ञान यदि समझा जाए तो सभी समस्याओं का सरलता से समाधान हो पाएगा। ऊर्जा न तो कभी उत्पन्न की जा सकती है न कभी नष्ट की जा सकती है। ब्रह्माण्ड में सभी कुछ ऊर्जा ही है। हम सभी सर्वश्रेष्ठ ऊर्जा के अंश है। जिसे ‘ईष्वर‘ नाम दिया गया है। संपूर्ण ब्रह्माण्ड इसी सर्वश्रेष्ठ ऊर्जा द्वारा संचालित किया जाता है।
जिस क्षण आप समझ पाते हैं कि ‘‘आप एक शक्तिषाली आत्मा हैं’’, आप कभी भयग्रस्त नहीं होंगें, लालच का अनुभव नहीं करेंगें तथा ईर्ष्या कभी नहीं करेंगें। आप संसार की प्रत्येक वस्तु को एक शक्तिषाली आत्मा के रूप में देखते हुए कोई भेदभाव और ईर्ष्या का भाव नहीं रखेंगे। अपना धैर्य सरलता से नहीं खोएंगे। यदि आप यह ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं तो आप अपने मस्तिष्क, संवेदनाओं और अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रख पाएंगे, आप प्रतिक्रिया देने की अपेक्षा बुद्धिमानी के साथ कार्य कर पाएंगें। सभी ईष्वर की संतान है। आप अनुभव करेंगें कि सभी आपसे कहीं न कहीं और किसी न किसी रूप में संबधित हैं और हम सभी एक बड़े परिवार का अंग है।
‘‘मैं ईष्वर का एक अनिवार्य अंग हूँ’’ यह विचार कर आप असीम प्रसन्नता और एक सर्वोच्च शक्तिषाली स्त्रोत से जुड़ेगें। यही सर्वोच्च ज्ञान है जो स्वानुभूति लाता है, और ईष्वरानुभूति की ओर ले जाता है।

best motivational speaker, counselling for depression/stress/tension, best personal counselling in jaipur, best motivational blog and editorial

अध्यापन एक सरल कार्य नहीं है।

8

आइए! हम कुरूक्षेत्र के दृष्य को याद करते हैं, जहाँ संसार के परम गुरू श्री कृष्ण एक अनुभवी व्यक्त्ति दुर्योधन को समझाने और सिखाने का महत्त्वपूर्ण प्रयास करते हैं, परंतु पूर्णतः सफल नहीं हो पाते। श्री कृष्ण कुंती, गांधारी और धृतराष्ट्र को भी समझाने में सफल नहीं हो पाए।
यही वर्तमान में हमारे साथ भी हो रहा है, जब हम दूसरों को समझाने का प्रयास करते हैं, किन्तु सफल नहीं हो पाते हैं। न तो हम उन्हें समझा पाते हैं, न हम इस असफलता का कारण समझ पाते हैं।
अतः प्रष्न यह उठता है कि हम हमारे समक्ष उपस्थित व्यक्त्ति को क्यों नहीं समझा पाते हैं और वह व्यक्त्ति समझने में क्यों सक्षम नहीं होता। यह समझना अति आवष्यक है और दूसरों को समझाना भी। किन्तु दोनों ही अत्यंत कठिन कार्य हैं। आप देखेंगें कि एक बीज को उगने के लिए उपयुक्त वातावरण आवष्यक होता है। एक बीज को बोने का एक उचित समय होता है। जब बीज को विषेष तापमान, प्रभावषाली वातावरण, समुचित जल की उपलब्धि होती है तभी वह अंकुरित होंगा और एक वृक्ष के रूप में अभिवृद्ध होगा। बीज बोने के बाद यदि अत्यंत भारी वर्षा हो जाती है तो यह संपूर्ण बीज को नष्ट कर देगी। इस स्थिति में क्या करना चाहिए? हमें उचित समय की प्रतीक्षा करनी चाहिए और तब तक प्रयास करते रहना चाहिए जब तक हम उचित वातावरण प्राप्त नहीं कर लेते।
अध्यापन एक सरल कार्य नहीं है। यह अत्यंत चुनौतीपूर्ण और कठिन कार्य है। अध्यापकों को न केवल पुस्तक से बल्कि स्वयं एक उदाहरण बनकर पढ़ाने एवं सिखाने के लिए निरन्तर प्रयास करना चाहिए। अध्यापकों से विद्यार्थी प्रेेम ओर स्नेह की अपेक्षा करते हैं। वे अध्यापक के मात्र आंतरिक सौन्दर्य की प्रषंसा करते है और उसी से सीखते भी हैं।
एक षिक्षक अपने स्नेहपूर्ण एवं संरक्षणपूर्ण व्यवहार से आकर्षक बनता है न कि बाह्य रूप से। सौंदर्य आंतरिक होता है, यदि आप आंतरिक रूप से अच्छे हैं तो यह आपकी अच्छी प्रवृति को दर्षाता है। इसीलिए 70 वर्ष की आयु में भी आपके दादा-दादी का व्यक्तित्व आपको बहुत आकर्षक लगता है।
इसी कारण पूर्व राष्ट्रपति प्रो. अब्दुल कलाम आजाद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मदर टेरेसा जैसे महान व्यक्तित्व भी हमारी दृष्टि में सुंदर हैं क्योंकि ये सभी विनम्रता से परिपूर्ण हैं। किसी महान व्यक्ति का आंतरिक सौंदर्य हमें अत्यधिक ऊर्जावान एवं सकारात्मक बना देता है। इस आंतरिक सौंदर्य को कैसे विकसित किया जाए? इसका एक ही तरीका है -‘धन्यवाद‘ कहना । जितनी बार जितने अधिक लोगोें को आप धन्यवाद कह सके, कहिये और अपने मन को सुंदर बनाइये। जब कभी आप महसूस करें कि आपकी गलती है तुरन्त ‘क्षमा मांगिए। कभी-कभी तब भी क्षमा मांगिए जब आपने कुछ भी गलत नहीं किया। आपका ‘क्षमा’ शब्द (Sorry) जीवन की कई समस्याएं सुलझा सकता है। यह आपको अधिक विनम्र बनाएगा। यह आपके व्यक्तित्व को अधिक गरिमामय बनाएगा और आपके मन को सौंदर्य प्रदान करेगा।

best motivational blog and editorial, career 12th graduation, online student counselling,  best motivational speaker

Devotion is the source of Completeness

7

Devotion is essential for every human being. This is the most important part of an individual’s life because it makes him free from all his guilt, frustration, sorrows and irritation. Devotion is the only thing that helps an individual to meet his own self. Devotion makes our thoughts unite with others as well as with the supreme energy. Unity is the most important part of human life. We can be united and be complete in our lives only through this pious act. There is a lot of input of information in our lives but hardly, it is used because the information gets stuck at a certain level of our thoughts. What career we choose after 12th graduation

For the best use of knowledge, there is the need of continuous flow of knowledge, where input and output should be balanced to keep the life smooth. Women are more devoted living beings on the earth. They are grateful towards God and they possess a pure heart. Meera from Merta city was the greatest devotee of Lord Krishna who in every negative situation came closer to God. We can learn a lot from this great devotion of Meera. Let’s show our gratitude towards nature and the ultimate power through this pious Mantra:
Mukund Madhava Govind Bol,
Keshav Madhava Hari Hari Bol
Let’s unite ourselves with the universe and chant this Mantra to make our hearts pure. It is very important to understand and imbibe the meaning of this Mantra.

Best motivational speaker,   Counselling for depression/stress/tension, Career after 12th graduation

 

 

चाणक्य के मूल्यवान सिद्धान्त

5

महान विद्वान चाणक्य ने कुछ मूल्यवान सिद्धान्त दिए थे जो कि प्रत्येक व्यक्ति के जीवन के अच्छे मार्गदर्शक सिद्ध होंगे। आइए! आज हम चाणक्य के कुछ बहुमूल्य सिद्धान्तों की चर्चा करते है और उन्हें अपने जीवन में अपनाने का प्रयास करते हैं।
प्रथम सिद्धान्त- संघर्ष में विजय प्राप्ति हेतु आपके लिए आवश्यक है –
1 दृढ़ संकल्प
2 पहले से ही पूर्णतः तैयार हो जाना
3 इच्छा शक्ति जो किसी भी संघर्ष में विजयी होने के लिए अपरिहार्य एवं पर्याप्त साधन है।
दूसरा सिद्धान्त- सफलता प्राप्ति हेतु आपके लिए आवष्यक हैः-
4 चमत्कारिक शब्दों में आस्था रखना। किन्तु दूसरों के मत या बातों में बिना विचारे विष्वास मत कीजिए पवित्र ग्रंथों या गुरूओं के द्वारा ऐसा ही बोला गया है। केवल उसी पर विष्वास कीजिए जो आपने अनुभव किया है, जो तार्किक है, जो आपके द्वारा पूर्ण परीक्षित है और जो मानवता के लाभार्थ हो और जो अधिक लोगों के लिए प्रसन्नता ला सकें।
जीवन में प्रसन्नता अत्यंत आवष्यक है। यदि यह सिद्धान्त सार्वभौमिक रूप से श्रेष्ठ है तो यह अवष्य स्वीकार किया जाना चाहिए।
तीसरा सिद्धान्त- विफलता के भय से मुक्ति पाने हेतु आपके लिए आवष्यक है-
5 एक अच्छी योजना का निर्माण और अपनी योजना पर पूर्ण विष्वास रखना। यदि योजना श्रेष्ठ है तो निर्णय भी श्रेष्ठ होगा। तीव्र आस्था और समर्पण से युक्त श्रेष्ठ योजना असंभव को संभव में रूपान्तरित कर सकती है। आषावादी प्रत्येक परिस्थिति में संभावना ढ़़ँूढ़ लेता है। निराषावादी प्रत्येक परिस्थिति में विफल होता है। सफलता और विफलता व्यक्त्ति की प्रवृत्ति पर निर्भर करती है। आइए! अपनी शक्ति का पूर्ण प्रयोग करें। आइए! संभावनाआंे से युक्त बनं।
श्रेष्ठ विचारों के द्वारा हम श्रेष्ठ कार्य कर सकते हैं। एक श्रेष्ठ षिक्षक कई विद्यार्थियोें में परिवर्तन ला सकता है। एक उचित शैक्षिणिक वातावरण के लिए हमें रचनात्मक बनना चाहिए। श्रेष्ठ विचार ही हमारे लिए श्रेष्ठ वातावरण का निर्माण करते हैं। हम चाणक्य के समान एक आत्मविष्वासी षिक्षक बन सकते हैं और अपने षिक्षण को प्रभावी बना सकते हैं, यदि हम निम्नलिखित बातें अपने जीवन में अपनाते हैं-
 शिक्षण की समुचित तकनीक अत्यंत महत्वपूर्ण है।
 पाठ्य सामग्री पहले से ही समुचित रूप से तैयार कर लेनी चाहिए।
 शिक्षण प्रक्रिया में परिवर्तन हेतु उचित पद्धति अत्यंत आवष्यक है।
 आपका अपने विषय पर प्रगाढ़ नियंत्रण हो।
 आप आत्मविष्वास से युक्त हो।
 आप में साहस और अधिकारपूर्वक ज्ञान वितरण करने की पूर्ण क्षमता हो।
 आपके विचार मौलिक हांे जिन्हें रचनात्मक रूप से समझना संभव हो।
श्रद्धा अत्यंत शक्तिषाली है। यदि आप स्वयं को एवं अपने विद्यार्थियों को जानते हैं तो आप अपना शत प्रतिषत दे पाएंगें। विद्यार्थियों की मानसिकता को समझना अतिआवष्यक है। चाणक्य उन महान षिक्षकों में से एक है, जिन्होंने अपने षिष्यों को प्रभावी व आत्मविष्वासपूर्वक ज्ञान व निर्देषन प्रदान किया। हम उनके सिद्धांतों से सीखकर एक सफल षिक्षक बन सकते है। षिक्षक संपूर्ण समाज को रूपांतरित कर सकते है। यह संभव है यदि हमारे मस्तिष्क के प्रयोग द्वारा आत्मविष्वासपूर्वक अधिकाधिक ज्ञान का उद्भव हो। षिक्षकों में उत्साह, इच्छा शक्ति और दिए गए पाठ्यक्रम से अधिक प्रदान करने की मंषा होनी चाहिए।

best motivational blog and editorial, counselling for depression/stress/tension, career after 12th graduation, best motivational speaker